Saturday, February 15, 2014

अब तक लोगों को घर से कहीं जाने के लिए सिर्फ टैक्सी की सुविधा ही उपलब्ध थी, लेकिन अब लोगों को एक कॉल पर घर से गंतव्य तक जाने के लिए ऑटो की सुविधा भी मिलेगी। इसे दिल्लीवासी जी-ऑटो के नाम से जानेंगे। दिल्ली में इस नई परिवहन सुविधा की शुरुआत पूर्वी दिल्ली नगर निगम की ओर से निर्मल फाउंडेशन नामक संस्था के साथ मिलकर किया जा रहा है। इसके लिए पूर्वी दिल्ली निगम ने संस्था के साथ करार किया है। इस सेवा की शुरुआत शनिवार से होगी।
Auto service in Delhi
डायल ऑटो सर्विस
घर पर ऑटो बुलाने या अग्रिम बुकिंग कराने के लिए आपको जी ऑटो सर्विस के कॉल सेंटर में फोन करना होगा। दिए गए समय में ऑटो आपके पास हाजिर हो जाएगा और गंतव्य तक छोड़ देगा। कॉल सेंटर के जरिये यात्री एक दिन पहले भी बुकिंग करवा सकते हैं। इससे लोगों को घर से दूर ऑटो पकड़ने या कहीं चौक-चौराहे पर इंतजार करने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। शुरुआत में कॉल सेंटर की सुविधा सुबह 6 बजे से रात के 12 बजे तक मिलेगी। बाद में इसे 24 घंटे का किया जाएगा।

115 रुपये अतिरिक्त लगेंगे
ऑटो का किराया तो दिल्ली सरकार की ओर से तय भाड़े के अनुसार लगेगा। सभी ऑटो मीटर से चलेंगे। इस सेवा के लिए लोगों को 15 रुपये अतिरिक्त चुकाने पड़ेंगे। चूंकि पूर्वी दिल्ली नगर निगम की ओर से समझौते के तहत इस सेवा की शुरुआत की जा रही है। इस वजह से निगमकर्मियों व पार्षदों को 15 रुपये अतिरिक्त नहीं लगेंगे।

ऑटो चालकों को भी मिलेगी सुविधा
संस्था के जुड़ने वाले ऑटो चालकों का पूरा ब्योरा संस्था के पास रहेगा, जिससे यात्री इस सेवा के माध्यम से सुरक्षित यात्र कर सकते हैं। इसके अलावा संस्था से जुड़ने वाले ऑटो चालकों का एक लाख रुपये का दुर्घटना बीमा करवाया जाएगा। इसके अलावा 25 हजार रुपये का स्वास्थ्य बीमा भी करवाया जाएगा।

निगम को भी होगी आय
जी-ऑटो के पीछे लगने वाले विज्ञापनों के माध्यम से जहां कंपनी को आय होगी, वहीं इससे निगम की आय होगी।

1150 ऑटो जुड़े हैं सेवा से
शुरुआत में इस सेवा से 150 ऑटो जुड़े हैं। भविष्य में इस सेवा से काफी संख्या में ऑटो चालकों के जुड़ने की संभावना है। गुजरात में सफल रही है यह सेवा निर्मल फाउंडेशन ने इस सेवा की शुरुआत गुजरात में की थी। वहां इस सेवा से 10 हजार ऑटो जुड़े हैं। यह सेवा वहां सफलतापूर्वक चल रही है। इससे दिल्ली में भी इस सेवा के सफल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है।
Reactions:

0 comments :